बिहार में सैनिक का अपमान,फर्जी मामला बनाकर पुलिस ने किया गिरफ्तार

ab latest

तस्वीर में दो #बहादुर पुलिस वालों के बीच में जो आदमी खड़ा है वह भारतीय सेना का सिपाही है। रविंद्र आर्य असम राइफल्स के सिपाही हैं। मां दुर्गा के त्योहार पर छुट्टियां लेकर जब वे उत्तराखंड अपने घर जा रहे थे तब बिहार पुलिस ने 16 तारीख को उनको 5 बोतल दारू के साथ देखते ही अपनी बहादुरी का नमूना पेश करने का मौका ना गंवाते हुए उनको हिरासत में लिया। एक बड़े हिस्ट्रीशीटर को जैसे पकड़ा हो उस तरह से उनके हाथ बांधकर हथकड़ियों के साथ परेड करवाते हुए ले गए।

इस फौजी के पास अपने दारू की बोतल का पूरा ब्यौरा था। जिस आर्मी कैंटीन से खरीदा गया था, उसका बिल था। परंतु पुलिस वालों ने फौजी की एक भी बात ना सुनते हुए उन्हें जेल में डाल दिया है। अब वो छपरा जेल में बंद हैं। फौजी की आंख में आंसू आ गए… साल भर में दो से तीन बार ही छुट्टियां मिलती हैं और त्यौहार के दिन वह अपने बीवी बच्चों के पास जाने की जगह जेल में बंद है।

रविंद्र आर्य के कमांडिंग ऑफीसर ने खुद एसपी को फोन किया और छोड़ने के लिए बोला…. परंतु बेशर्म एसपी ने यह बोलते हुए बात टाल दी कि अब कुछ नहीं हो सकता, अब सोमवार को कोर्ट के सामने पेशी होने के बाद ही उन्हें बेल मिलेंगी।

यह देश में चल क्या रहा है ??

हर रोज कहीं ना कहीं से हमारे फौजियों को परेशान करने की बातें आती रहती हैं। देश का कानून भी यह कहता है कि आप छोटे मोटे गुनह के आरोपियों को हथकड़ी से बांधकर नहीं ले जा सकते…. जबकि यहां पर तो एक फौजी को बिना किसी गुनाह के इस तरह से ले जाया गया।
बहुत ही शर्मनाक है यह घटना।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *