पढिये किसान की मेहनत – नागौर के किसान ने फूलो की खेती करके कमाए करोड़ों रुपये

ab latest

नागौर के देशवाल गांव के गणेशाराम प्रजापति ….
16 वर्ष पहले आप गोआ घूमने गए थे और वहां की हरियाली देख के आपके मन मे कुछ अलग हट के करने का विचार आया ….
आपके हिस्से 85 बीघा पैतृक कृषि योग्य ज़मीन आयी है जिसमें से 80 बीघा में आप खरीफ सीजन की खेती एवं शेष 5 बीघा में हिबिसकस सबदरिफा जैसी आयुर्वेदिक औषधीय गुणों वाली पौध लगाते हैं ….
आप अपनी मासिक आय का 20% हिस्सा औषधीय पौध पर खर्च करते हैं ….
आपने अब तक विगत 16 वर्षों में 2 लाख आयुर्वेदिक औषधीय पौध लगाई है ….
आजकल आप किसानों को जैविक खेती के अभियान की और अग्रसर करने का कार्य कर रहे हैं ….
कृषि एवं पर्यावरण के क्षेत्र में आपके इन्हीं उत्कृष्ट कार्यों को देखते हुए अमेरिका में हुए पर्यावरण सेमिनार में आपको 2 वार आमंत्रित किया गया है ….
आप पर्यावरण में रुचि दिखाने वाले व्यक्तियों एवं संस्थाओं को भी पौधे उपलब्ध करवाते हैं ….
आपने राजस्थान स्टेट ऑर्गेनिक सर्टिफिकेशन एजेंसी के जरिये अपनी 80 बीघा जमीन का सर्टिफिकेट ऑर्गेनिक खेती के लिए बनवाया है ….
आपका मानना है ऑर्गेनिक खेती में उपज भले थोड़ी कम हो किन्तु फसलों/अन्न की गुणवत्ता शानदार होती है ….
आपके द्वारा उगाई जाने वाली आयुर्वेदिक औषधीय पौध एवं जड़ी बूंटीयों का निर्यात जर्मनी तक होता है …. इनका उपयोग कैंसर में रक्त संचरण बढ़ाने …. मधुमेह के उपचार में …. पत्थरी के निवारण एवं विभिन्न असाध्य बीमारियों में किया जाता है ….
आप अश्वगंधा तुलसी गुगुल शतावरी के पौध भी लगाते हैं ….
आप नागौर जोधपुर जयपुर दिल्ली सहित देश के अनेक शहरों एवं अमेरिका जर्मनी तक विभिन्न सरकारों संस्थाओं द्वारा कृषि क्षेत्र में किये उत्कृष्ट कार्य के लिए सम्मानित हो चुके हैं ….
आप राजस्थान असोसिएशन ऑफ नॉर्थ अमेरिका संस्था द्वारा भी वर्ष 2011 में अमेरिका में सम्मानित हो चुके हैं ….
वर्ष 2018 में तत्कालीन एयर-मार्शल हरिकुमार भी आपको दिल्ली बुलाकर एयरफोर्स ऑडिटोरियम में सम्मानित कर चुके हैं ….
आप बीएससी एमबीए है एवं बच्चों को ट्यूशन पढ़ा कर अपनी आजीविका का संचालन करते हैं ….
कृषि पर्यावरण एवं आयुर्वेदिक औषधीय क्षेत्र में आपके धाकड़ कार्य हेतु एवं नागौर जिले का नाम अंतर्राष्ट्रीय पटल पर रोशन करने हेतु आपको उज्ज्वल भविष्य की शुभकामनाएं!! ….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *